यदि सूर्य, लग्न, या पिता के कारक भावों पर राहु या केतु की द्रष्टियां हों तो ये दोष होता है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here