बेंगलुरु: कांग्रेस (Congress) विधायक बीके संगमेश्वर (BK Sangameshwara) ने गुरुवार को कर्नाटक विधान सभा (Karnata Assembly Election) में प्रदर्शन करते हुए अपनी शर्ट उतार दी. बताया जा रहा है कि विधायक भद्रावती में आयोजिक एक कार्यक्रम के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई से नाराज थे और एफआईआर से अपना, अपने परिवार के सदस्यों और कुछ समर्थकों का नाम हटवाना चाहते थे.

इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार की ‘वन नेशन, वन इलेक्शन’ पॉलिसी का भी विरोध किया और इसे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) का एजेंडा बताया. इसके जवाब में, कर्नाटक के वर्तमान सीएम बीएस येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) सदन में अपनी कुर्सी से खड़े हुए और कहा कि वह एक गर्वित आरएसएस सदस्य हैं और सिद्धारमैया में आरएसएस के बारे में बोलने की कोई नैतिकता नहीं है. 

ये भी पढ़ें:- हंसते-हंसते कट जाएगा सफर, रेलवे शुरू करने जा रहा मोस्ट अवेटेड सर्विस

कर्नाटक के एक और मंत्री विवादों में

इससे एक दिन पहले कर्नाटक के एक मंत्री बीसी पाटिल काफी रर्चा में रहे थे. दरअसल, मंत्री की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी. मंत्री अपने घर ही कोरोना वैक्सीन लगवा रहे थे. जब लोगों ने सवाल उठाए कि मंत्री टीका लगवाने अस्पताल क्यों नहीं गए? मामले को तूल पकड़ता देख मंत्री बीसी पाटिल ने सफाई दी. उन्होंने कहा, ‘अस्पताल में मेरी उपस्थिति से टीकाकरण प्रक्रिया बाधित हो सकती थी क्योंकि लोग अपनी शिकायतें लेकर मेरे पास आ जाते. ऐसे में मैंने घर पर रहकर वैक्सीन लगवाना और लोगों की शिकायतें सुनना ज्यादा सही समझा. इसमें गलत क्या है? मुझे ये बात समझ नहीं आ रही कि अचानक ये चर्चा का विषय क्यों बन गया है. मैं एक उदाहरण स्थापित कर रहा हूं. लोग आगे आएंगे और टीकाकरण करवाएंगे.’

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here