डिजिटल डेस्क,मुंबई। हिंदी सिनेमा के जानें-मानें अभिनेता चंद्रशेखर वैद्य अब इस दुनिया में नहीं रहे। 98 साल के चंद्रशेखर का आज सुबह करीब 7:10 मिनट में मुंबई के अंधेरी स्थित घर में निधन हो गया। चंद्रशेखर ने बॉलीवुड में अपनी मेहनत और संघर्ष के दम पर अलग पहचान बनाई। बता दें कि, चंद्रशेखर ने बॉलीवुड की कई हिट फिल्मों में काम किया लेकिन उनको पहचान मिली ‘रामायण’ में आर्य सुमंत का रोल निभाने की वजह से। रिपोर्ट्स के मुताबिक, चंद्रशेखर को कोई गंभीर बीमारी नहीं थी। आज शाम यानि कि 16 जून 2021 को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

चंद्रशेखर से जुड़ी कुछ खास बातें

  • चंद्रशेखर का जन्म 1923 में हैदराबाद में हुआ था।
  • फिल्म इंडस्ट्री में काम करने की वजह से उन्हें पढ़ाई छोड़नी पड़ी।
  • चंद्रशेखर अपने संघर्ष के दिनों में चौकीदार का काम करते थे।
  • चंद्रशेखर ने भारत छोड़ो आंदोलन में भी हिस्सा लिया। 
  • इसके बाद उन्होंने एक्टिंग में किस्मत आजमाई और सफल हुए।
  • चंद्रशेखर ने CINTAA एसोसिएशन का गठन किया। 
  • चंद्रशेखर ने अपने करियर में 110 से ज्यादा फिल्में कीं। 
  • चंद्रशेखर ने 1964 में आई फिल्म ‘चा चा चा’ और 1966 में आई फिल्म ‘स्ट्रीट सिंगर’ का निर्देशन किया। 
  • चंद्रशेखर ने रामानंद सागर की रामायण में राजा दशरथ के महामंत्री सुमंत का किरदार निभाया था। 
  • इस रोल से उन्हें खूब लोकप्रियता हासिल हुई। 
  • चंद्रशेखर, रामानंद सागर के करीबी दोस्त थे। रामायण की उस स्टारकास्ट में वो सबसे उम्रदराज कलाकार थे।

बता दें कि, चंद्रशेखर के पहले बॉलीवुड एक्टर बोमन ईरानी की मां जेरबानू का निधन हो गया था। जेरबानू की उम्र 94 वर्ष थी। इस बात की जानकारी बोमन ने सोशल मीडिया के जरिए साझा की थी। हालांकि, उनकी मां का निधन किस वजह से हुआ हैं,ये बात अब तक स्पष्ट नहीं हो पाया था। एक्टर ने अपनी मां के निधन पर एक इमोशनल नोट शेयर किया था, जिसमें उन्होंने लिखा, मदर ईरानी का आज सुबह नींद में ही शांति से निधन हो गया। जेर 94 वर्ष की थी। उन्होंने मेरे लिए माता और पिता दोनों की भूमिका निभाई, जब वह 32 वर्ष की थीं। वह अद्भुत आत्मा थी। मजेदार कहानियों से भरी हुई, जो केवल वह ही बता सकती थी। सबसे लंबी भुजा जो हमेशा अपनी जेब में कुछ न कुछ टटोलता था, तब भी जब वहाँ बहुत कुछ नहीं था। जब उन्होंने मुझे फिल्मों में भेजा, तो कहा कि ‘पॉपकॉर्न मत भूलना’। वह अपने भोजन और अपने गीतों से प्यार करती थी और वह एक फ्लैश में विकिपीडिया और आईएमडीबी की तथ्य-जांच करती रहती थी। तीक्ष्ण, तीक्ष्ण, तीक्ष्ण, अंत तक। वह हमेशा कहती थीं, ”आप ऐसे अभिनेता नहीं हैं, जो लोग आपकी तारीफ करें। आप केवल एक अभिनेता हैं इसलिए आप लोगों को स्माइल दे सकते हैं।” “लोगों को खुश करो” उन्होंने कहा। कल रात उन्होंने मलाई कुल्फी और कुछ आम मांगे। वह चाहती तो चाँद और तारे माँग सकती थी। वह थी, और हमेशा रहेगी……एक स्टार।

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here