नई दिल्ली. ऐपल शुरू से ही अपनी प्रायवेसी के लिए जाना जाता है. वहीं कुछ समय पहले ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर लाकर उसने यह भी साबित कर दिया कि यूज़र्स की प्राइवेसी से ज़्यादा उसके लिए कुछ नहीं है. क्योंकि इस फीचर के चलते फेसबुक के माथे पर भी चिंता की लकीर आ गई थी क्योंकि इसमें आईफोन यूजर्स को यह सहूलियत थी कि वो यह तय कर सके कि कौन सा ऐप उन्हें ट्रैक करे कौन सा नहीं. इस मामले में चीनी ऐप्स कंपनियों को लग रहा है था कि वो ऐपल से दो कदम आगे बढ़कर इस  ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी फीचर को बायपास कर देगा लेकिन ऐपल ने ऐसा होने नहीं दिया. सोशल मीडिया नेटवर्क टिकटॉक ने कुछ अन्य चीनी टेक कंपनियों के साथ ऐपल के ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी मेजर्स को दरकिनार करने की कोशिश की, लेकिन ऐपल उनके झांसे में नहीं आया.

चीनी विज्ञापन आईडी, या CAID पर स्विच करने का प्रयास किया

कंपनियों को यह विश्वास था कि ऐपल उनके ऐप्स को ब्लॉक नहीं कर पाएगा, विशेष रूप से चीनी क्षेत्र में, TikTok और QQ सहित ऐप्स ने iPhone यूजर्स को नियंत्रण देने वाले ऐप ट्रैकिंग ट्रांसपेरेंसी उपायों को दरकिनार करने के लिए चीनी विज्ञापन आईडी, या CAID पर स्विच करने का प्रयास किया. कंपनियों को विश्वास था कि  चीन में अविश्वसनीय रूप से ऐपल वहां के लोकप्रिय ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने में सक्षम नहीं होगा. लेकिन ऐपल ने ऐप स्टोर से CAID को सूचीबद्ध करने वाले ऐप्स के अपडेट को ब्लॉक कर दिया. फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट है कि Baidu, Tencent और Bytedance सहित चीनी टेक कंपनियां विज्ञापन के उद्देश्यों के लिए iPhone यूजर्स को ट्रैक करने का एक नया तरीका बनाने के लिए काम कर रही हैं.

ये भी पढ़ें – Samsung Galaxy F22 है सबसे सस्ता sAMOLED 90Hz डिस्प्ले वाला फोन! 6000mAh की बैटरी

केवल 15% iPhone यूजर्स ने अपने iPhone पर ऐप्स को ट्रैक करने की अनुमति दी 

लोकप्रिय चीनी टेक कंपनियों जैसे Baidu, Tencent और Bytedance के ऐप अपडेट को ब्लॉक करने के इन उपायों को डेटा प्राइवेसी के लिए Apple के लिए एक बड़ी जीत के रूप में देखा जाना चाहिए. इस साल मई में, एनालिटिक्स फर्म Flurry Analytics के डेटा ने सुझाव दिया कि विश्व स्तर पर, अब केवल 15% iPhone उपयोगकर्ताओं ने अपने iPhone पर ऐप्स को ट्रैक करने की अनुमति दी है- संभवतः संपूर्ण स्मार्टफ़ोन जनसांख्यिकीय के विपरीत, जिसका इस पर कोई नियंत्रण नहीं था कि ऐप्स उन्हें कैसे ट्रैक करते हैं. विज्ञापनों की सर्विस के लिए डेटा कलेक्ट करना. अमेरिका में ऑप्ट-इन दर और भी कम है सिर्फ 6 प्रतिशत पर. Apple ने पहले चीनी ऐप्स को अपने प्राइवेसी नियमों को नहीं टालने की चेतावनी दी थी.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here