Publish Date: | Thu, 01 Jul 2021 09:12 PM (IST)

India-China Border issue: भारत-चीन सीमा विवाद के मामले में ताजा स्थिति ये है कि सबसे ज्यादा विवादित और संघर्ष वाले क्षेत्र पेंगोंग झील के इलाके में फरवरी महीने के बाद से ही पूरी तरह शांति है। सेना प्रमुख एमएम नरवणे (Army Chief MM Naravane) ने गुरुवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद पर भारत और चीन के बीच बातचीत से ‘विश्वास निर्माण’ में मदद मिली है। उन्होंने बताया कि फरवरी में पैंगोंग झील क्षेत्र से सैनिकों की वापसी के बाद से क्षेत्र में स्थिति सामान्य है। उन्होंने चीन के साथ बाकी मुद्दों के भी जल्द हल हो जाने का विश्वास दिलाया।

जनरल नरवणे ने एक थिंक-टैंक के साथ डिजिटल संवाद सत्र में यह भी कहा कि पिछले एक साल में उत्तरी सीमाओं पर हुई घटनाएं इस बात की पुष्टि करते हैं कि सशस्त्र बलों को भारत की क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए निरंतर तैयार रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि को कहा कि पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद पर भारत और चीन के बीच बातचीत से फायदा हुआ है। इस साल फरवरी में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी तटों के साथ ही कैलाश पर्वतमाला से सैनिकों की वापसी होने के बाद से ही वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर स्थिति सामान्य है। उन्होंने कहा कि तब से दोनों पक्षों ने सैनिकों की वापसी पर बनी सहमति का पूरी तरह से पालन किया है। इसके अलावा हम राजनीतिक और सैन्य स्तर पर चीन से लगातार संवाद कर रहे हैं।

उन्होंने आधुनिक युद्ध में तकनीक के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि भारत को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी विशिष्ट तकनीकों का उपयोग करने, आईटी में विशेषज्ञता हासिल करने और ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण को साकार करने के लिए, मौजूदा प्रक्रियाओं को अधिक लचीला और अनुकूल बनाने की आवश्यकता है।उन्होंने बताया कि भारत कई तरह के अनुप्रयोगों पर विचार कर रहा है जिसमें निगरानी, ​​लॉजिस्टिक्स, साइबर स्पेस ऑपरेशन, सूचना संचालन और सबसे महत्वपूर्ण सैन्य प्रशिक्षण शामिल हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 

Show More Tags



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here