अधिकारियों के अनुसार, निर्वाचन आयोग ने निर्णय लिया है कि छह में से चार पदों का मतदान ईवीएम से कराया जाएगा, जबकि दो पदों पर बैलेट पेपर से मतदान होंगे।

 

नई दिल्ली।

राज्य में पंचायत चुनाव को लेकर बड़ी खबर आ रही है। इसके तहत चुनाव आयोग ने पंचायत चुनाव में ईवीएम के साथ-साथ बैलेट पेपर से भी वोटिंग कराने का फैसला किया है। इसको लेकर बिहार राज्य निर्वाचन आयोग ने तैयारी भी शुरू कर दी है। इस फैसले के पीछे ईवीएम की कम उपलब्धता बताई जा रही है।

अधिकारियों के अनुसार, निर्वाचन आयोग ने निर्णय लिया है कि छह में से चार पदों का मतदान ईवीएम से कराया जाएगा, जबकि दो पदों पर बैलेट पेपर से मतदान होंगे। जिला परिषद, मुखिया, वार्ड सदस्य और पंचायत समिति के लिए ईवीएम से मतदान होंगे, जबकि पंच और सरपंच का मतदान बैलेट पेपर से कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें:- भारत में मिली मकड़ी की नई प्रजाति, नाम दिया गया आइसियस तुकारामी, जानिए जाबाज तुकाराम की शौर्य गाथा

कोरोना वायरस के संक्रमण की तेज रफ्तार के कारण बिहार में पंचायत चुनाव टल गए थे। अब सरकार की ओर से चुनाव करवाने के लिए हरी झंडी दे दी गई है। सूत्रों से मिली खबर के अनुसार अगस्त के अंतिम सप्ताह से शुरू होकर सितंबर-अक्टूबर में ये चुनाव करवाए जा सकते हैं। यह जानकारी भी सामने आ रही है कि चुनाव आयोग ने इसके 10 चरण में करवाने के संकेत दिए हैं।

इस बीच चुनाव आयोग (Election Commission) के द्वारा इलेक्शन से जुड़ी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने राज्य आपदा प्रबंधन विभाग से विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। बताया जा रहा है कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो में चुनाव को लेकर रणनीति बनाई जा रही है।

यह भी पढ़ें:- रिसर्च रिपोर्ट: कोरोनावायरस का प्रदूषण से कनेक्शन! जहां प्रदूषण अधिक वहां कोरोना ज्यादा जानलेवा

वहीं, राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव को लेकर इवीएम के मूवमेंट का प्लान तैयार कर लिया है। चुनाव का कार्यक्रम इस तरह से तैयार किया जा रहा है कि इवीएम के एक सेट का उपयोग पांच चरणों में किया जाएगा। एक सेट इवीएम का अगले चरण के मतदान में उपयोग की बीच करीब 13-15 दिनों का वक्त दिया जाएगा। राज्य में पंचायत आम चुनाव के लिए करीब एक लाख 14 हजार बूथों वोट डाले जाएंगे।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here