पूर्व केंद्रीय मंत्री और दिवंगत रामविलास पासवान की जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- खल रही है दोस्त की कमी

नई दिल्ली। दलित नेता एवं लोक जनशक्ति पार्टी ( LJP ) के संस्थापक राम विलास पासवान ( Ramvilas Paswan ) को उनकी जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने याद किया। रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, जनसेवा और वंचितों, दलितों को सशक्त बनाने में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा।

दरअसल मोदी नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री रहे रामविलास पासवान का पिछले साल अक्टूबर में निधन हो गया था। पीएम मोदी ने पासवान को ट्वीट के जरिए श्रद्धांजलि दी। वहीं रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ( Chirag Paswan ) ने भी पिता की जयंती पर उन्हें याद किया। चिराग ने भी इस दौरान एक भावुक पोस्ट किया।

यह भी पढ़ेँः भागवत के ‘लिचिंग’ वाले बयान पर ओवैसी का पलटवार, बोला तीखा हमला

प्रधानमंत्री नरेंद्र दिवंगत रामविलास पासवान को अपना दोस्त मानते थे। उनकी जयंती के मौके पर भी पीएम मोदी ने जो ट्वीट किया उसमें रामविलास को अपने मित्र के रूप में सबोधित भी किया।

मोदी ने ट्वीट किया, ‘आज मेरे मित्र दिवंगत राम विलास पासवान जी की जन्म जयंती है। आज उनकी कमी बहुत खल रही है। वह भारत के सबसे अधिक अनुभवी सांसदों और प्रशासकों में से एक थे। जनसेवा और वंचितों के सशक्तीकरण में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा।’

दरअसल रामविलास पासवान के निधन के बाद से उनकी पार्टी में जबरदस्त गुटबाजी शुरू हो गई है। उनके बेटे चिराग पासवान और भाई पशुपति कुमार पारस दोनों ही पासवान की राजनीतिक विरासत पर दावा जता रहे है। यही नहीं दोनों में रामविलास पासवान पर अधिकार को भी होड़ मची हुई है। दोनों ने अपने-अपने तरीके से पीएम मोदी से रामविलास पासवान को भारत रत्न दिए जाने की मांग की है।

यह भी पढ़ेँः फडणवीस के बयान से महाराष्ट्र में बढ़ी सियासी हलचल, बीजेपी की दुश्मन नहीं शिवेसना

चिराग ने किया भावुक पोस्ट
पिता रामविलास पासवान की जंयती पर बेटे चिराग ने भावुक पोस्ट किया। चिराग ने लिखा- लव यू पापा। वहीं हाजीपुर में चिराग ने कहा कि, लोजपा हमेशा रामविलास पासवान की सोच के साथ आगे बढ़ी और आगे भी मेरी कोशिश रहेगी कि इस परंपरा का पालन हो। उन्होंने कहा कि ‘मेरे पिता किसी से डरते नहीं थे, मैं भी उनका बेटा हूं और किसी से नहीं डरता हूं’ मुश्किलें कितनी आएं डंट कर मुकाबला करूंगा। चिराग का ये इशारा चाचा से चल जंग को लेकर था।

बता दें कि चिराग अपने पिता की पारंपरिक लोकसभा सीट हाजीपुर से यात्रा निकाल रहे हैं, ताकि अपने पक्ष में पार्टी समर्थकों को जुटा सकें।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here