Updated: | Mon, 05 Jul 2021 05:11 PM (IST)

केंद्रीय कर्मचारियों एवं पेंशनर्स के लिए यह बहुत काम की सूचना है। यह इसलिए भी अहम है क्‍योंकि यह महंगाई भत्‍ते एवं डीआर से जुड़ी है। असल में इन दिनों केंद्रीय कर्मचारी डीए में बढ़ोतरी की घोषणा का इंतज़ार कर रहे हैं लेकिन सोशल मीडिया पर इससे संबंधित भ्रामक सूचनाओं की भी भरमार है। ऐसे में सरकार ने इन खबरों पर स्थिति स्‍पष्‍ट कर दी है और कहा है कि अभी ऐसी आधिकारिक सूचना सामने नहीं आई है। वित्त मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि केंद्र सरकार ने इस साल जुलाई महीने से केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता (डीए) और महंगाई राहत (डीआर) की बहाली के बारे में कोई आदेश जारी नहीं किया है, ऐसी सभी सोशल मीडिया रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। मंत्रालय ने कहा, केंद्र सरकार के कर्मचारियों को डीए की बहाली और जुलाई 2021 से केंद्र सरकार के पेंशनभोगियों को महंगाई राहत का दावा करने वाला एक दस्तावेज सोशल मीडिया पर चल रहा है। यह कार्यालय ज्ञापन (ओएम) फर्जी है। भारत सरकार द्वारा ऐसा कोई ओएम जारी नहीं किया गया है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को कोविड-19 महामारी के मद्देनजर पिछले जनवरी से उनके डीए और डीआर की तीन किस्तें नहीं मिली हैं। इससे पहले केंद्र ने कहा था कि वह केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के 18 महीने के बकाया का जल्द ही भुगतान करेगा।

ऐसे मिलेगा बढ़े हुए महंगाई भत्‍ते का लाभ

मौजूदा DA 17 प्रतिशत है। यह बढ़कर 28 प्रतिशत होने की संभावना है। इसमें 17 + 3 + 4 + 4 की गणना लागू होगी। यह डीए गणना जनवरी से जून 2021 के लिए अपेक्षित 4 प्रतिशत डीए पर आधारित है। जुलाई से दिसंबर 2020 के लिए 4 प्रतिशत डीए की घोषणा की गई है। जनवरी से जून 2020 की अवधि के लिए 3 प्रतिशत डीए की घोषणा की गई है। हालांकि, 2.57 का 7 वां सीपीसी फिटमेंट फैक्टर है जिसे मासिक वेतन में संभावित वृद्धि की गणना करते समय याद रखना चाहिए। 7 वें वेतन आयोग के वेतन मैट्रिक्स नियम के अनुसार, एक केंद्रीय सरकारी कर्मचारी का मासिक वेतन मूल वेतन पर निर्भर करता है। यदि CGS का मासिक मूल वेतन 21,000 रुपये है तो मासिक 7 वां CPC वेतन 53,970 रुपये (21,000 x 2.57 रुपये) होगा।

भविष्य निधि (पीएफ) पासबुक बैलेंस में वृद्धि

डीए बहाली से पीएफ पासबुक बैलेंस भी बढ़ेगा। 7 वें वेतन आयोग भुगतान नियमों के अनुसार, केंद्र सरकार के पीएफ योगदान की गणना मूल वेतन प्लस डीए के आधार पर की जाती है। इसलिए, डीए बहाली के बाद, किसी व्यक्ति के पीएफ अंशदान में वृद्धि होने की उम्मीद है, जो पिछले वर्षों में पीएफ पासबुक के संतुलन में वृद्धि का कारण बना। चूंकि पीएफ बैलेंस केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए सबसे आम सेवानिवृत्ति निधि संचय उपकरण में से एक है।

दोहरी राहत : डीए के साथ टीए भी बढ़ेगा

केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए राहत के रूप में यह खबर सामने आई है। वित्त मंत्रालय ने आश्वासन दिया है कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनरों के महंगाई भत्ते (डीए) की तीन लंबित किस्तों को निर्णय के रूप में और जब भी लिया जाएगा, तब उन्हें बहाल किया जाएगा। वित्त मंत्रालय ने कहा कि उक्त कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते की लंबित किस्तों को “1 जुलाई, 2021 से प्रभावी संचयी संशोधित दरों में लिया जाएगा।” बीते दिनों राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में, वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि सरकार ने डीए की तीन किस्तों को from 37,430.08 करोड़ से अधिक बचा लिया है, जिससे पिछले साल देश में हिट होने वाले कोविद -19 महामारी से निपटने में मदद मिली थी। केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को महंगाई भत्ते और महंगाई राहत की तीन किस्तें 1.1.2020, 1.7.2020 और 1.1.2021 के कारण जमा हुई थीं। वर्तमान में, केंद्रीय कर्मचारियों को 17% का डीए मिलता है। पिछले साल, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए DA में 4% की वृद्धि को 21% करने की मंजूरी दी थी। यह 1 जनवरी, 2021 से प्रभावी होना था।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 

Show More Tags





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here