नई दिल्ली: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड​​-19 के मामले हर दिन बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं और महामारी के प्रसार में कोई कमी नहीं आई है. मंत्री ने हालांकि, फिर से कहा कि लॉकडाउन स्थिति का हल नहीं है और बीमारी से निपटने के लिए लोगों को जरूरत पड़ने पर ही बाहर निकलने, सभाओं से बचने, मास्क पहनने और कोविड-19-उचित व्यवहार का पालन करने की सलाह दी. इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री गुरुवार को सुबह 11 बजे दिल्ली के उपराज्यपाल के साथ समीक्षा बैठक में हिस्सा लेंगे और उसके बाद दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री, मुख्य सचिव एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भी कोरोना की वर्तमान स्थिति पर बैठक करेंगे. 

दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय ने दी जानकारी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दफ्तर से एक ट्वीट किया गया, जिसमें जानकारी दी गई कि दिल्ली में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल गुरुवार सुबह 11 बजे दिल्ली के उपराज्यपाल के साथ समीक्षा बैठक के माध्यम से चर्चा करेंगे. इसके बाद वो 12 बजे स्वास्थ्य मंत्री, मुख्य सचिव एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भी कोरोना की वर्तमान स्थिति पर बैठक करेंगे.

दिल्ली में कोरोना के संक्रमण में कोई कमीं नहीं

सत्येंद्र जैन ने कहा, ‘कल, दिल्ली में 13,468 मामले सामने आए और हमने लगभग 1.2 लाख जांच भी की. मामलों की संख्या तेजी से बढ़ रही है और हर दिन बढ़ रही है, और संक्रमण के प्रसार में कोई कमी नहीं आई है. इसलिए, मैं लोगों को सलाह दूंगा कि केवल बहुत जरूरी होने पर ही बाहर निकलें.’ जैन ने कहा कि लोकनायक जय प्रकाश नारायण अस्पताल में रोजाना 70-80 मरीज भर्ती हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि लगभग 80 लोगों को मंगलवार रात को राजीव गांधी अति विशिष्ट अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्होंने कहा कि संक्रमण के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं. 

अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई गई

मंत्री ने कहा कि विभिन्न अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई गई है, इसके अलावा दिल्ली सरकार ने फिर से केंद्र से अपने अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने का अनुरोध किया है. बाद में, उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर बिस्तरों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए अस्पतालों के साथ बैंक्वेट हॉल और होटलों को जोड़ने के आदेश जारी किए गए हैं. बाद में दिन में एक बयान में, जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली सरकार द्वारा संचालित अस्पतालों में मरीजों के लिए उपलब्ध बिस्तरों और सुविधाओं की स्थिति की सीधे निगरानी कर रहे हैं.

दिल्ली सरकार पूरी तरह से तैयार

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘दिल्ली सरकार ने उपलब्ध बुनियादी ढांचे को सुदृढ़ दिया है और वायरस से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है. मैं आप सभी से अस्पताल में तभी भर्ती होने का अनुरोध करता हूँ, जब सख्त जरूरत हो.’ बयान में यह भी कहा गया है कि जैन बुधवार को मरीजों के परिवार के सदस्यों से मिलने, उनकी प्रतिक्रिया लेने, सुविधाओं की समीक्षा करने और कर्मचारियों और डॉक्टरों को प्रोत्साहित करने के लिए एलएनजेपी अस्पताल गए. उन्होंने कहा कि कोविड-19 रोगियों के लिए पर्याप्त आईसीयू बेड उपलब्ध रखने के निर्देश दिए गए हैं. स्वच्छता सबसे जरूरी चीज है और इसे हर हाल में बरकरार रखा जाना चाहिए.

दिल्ली में टूटे सारे रिकॉर्ड

दिल्ली में बुधवार को कोविड-19 के 17,282 नये मामले सामने आये जो अभी तक एक दिन में सामने आने वाले सबसे अधिक मामले हैं. साथ ही, यहां 100 से मरीजों की मौत हो गई. स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी है. विभाग के बुलेटिन के अनुसार बुधवार को 104 मरीजों की मौत हो गई जिसके बाद यहां इस महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 11,540 हो गई है. बुलेटिन के मुताबिक मंगलवार को 1.08 कोरोना नमूनों की जांच के बाद ये नये मामले सामने आये. 

बढ़ा संक्रमण दर

राजधानी दिल्ली में संक्रमण दर बढ़कर 15.92 प्रतिशत हो गई है. इस महामारी की तीसरी लहर तक दिल्ली में एक दिन के सर्वाधिक 8,593 मामले 11 नवंबर , 2020 को सामने आये थे और 18 नवंबर को यहां सबसे अधिक 131 मौतें हुई थीं. पिछले साल नंवबर में संक्रमण दर 15 प्रतिशत से अधिक थी. कोविड-19 की चौथी लहर की चपेट से गुजर रही दिल्ली में मंगलवार को 13,468 नये मामले सामने आये थे और 81 मरीजों की मौत हो गई थी. इससे दिल्ली देश में सबसे अधिक प्रभावित शहर बन गई.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here