अहमदाबाद: टीम इंडिया के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) ने अहमदाबाद टेस्ट मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड के खिलाफ धमाकेदार अंदाज में शतक ठोक दिया. चौथे टेस्ट के दूसरे दिन ऋषभ पंत ने अपने टेस्ट करियर का तीसरा शतक ठोक दिया. ऋषभ पंत ने 118 गेंद में 13 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 101 रन जड़ दिए.

पंत (Rishabh Pant) ने अपनी तूफानी बैटिंग से भारत को मुश्किल हालात से निकालते हुए मजबूत बढ़त दिला दी. भारत के स्टार ओपनर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पंत की खूब तारीफ की है. 

 

धोनी की जगह लेने के लिए पंत हैं तैयार

जब रोहित (Rohit Sharma) से पूछा गया कि क्या पंत टीम में महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की जगह लेने को तैयार हैं, इस पर रोहित ने कहा कि वह पूरी तरह तैयार है. वह टीम के लिए यही काम कर रहा है.

रोहित (Rohit Sharma) ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी के भरोसे के कारण वह सलामी बल्लेबाज बने और अब खेल के पारंपरिक प्रारूप में इसका लुत्फ उठा रहे है. उन्होंने कहा कि टीम प्रबंधन का समर्थन रहा तो पंत भी खुल कर खेल सकते हैं.

उन्होंने कहा, ‘एक खिलाड़ी के रूप में यह जरूरी है कि कप्तान और कोच का समर्थन आपको मिले. पंत के साथ अभी ऐसा ही है. उससे आपको ऐसी पारियां देखने को मिलेंगी लेकिन मैं नहीं चाहता कि खराब शॉट लगाकर आउट होने पर उसकी आलोचना की जाए’.

पंत के मुरीद हुए रोहित शर्मा

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने कहा कि ऋषभ पंत की आक्रामक बल्लेबाजी शैली से टीम टीम प्रबंधन को तब तक कोई परेशानी नहीं है जब तक वह अपना ‘काम’ ठीक तरीके से कर रहे हैं.

Sehwag और Sachin Tendulkar ने खेली धमाकेदार पारी, इंडिया लेजेंड्स ने लगाई जीत की हैट्रिक

रोहित (Rohit Sharma) ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘पंत की बल्लेबाजी की अपनी अलग शैली है. जाहिर है उन्हें बताया जाता है कि पारी को कैसे आगे बढ़ना है. वह अपने ही अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे थे. यह हमारे नजरिये से अच्छा है क्योंकि यह टीम के लिए काम कर रहा है’.

उन्होंने कहा, ‘आपको टीम में हर तरह के खिलाड़ियों का मिश्रण चाहिए होता है. कुछ ऐसे खिलाड़ी जो गेंद का सम्मान करें, आपको कुछ ऐसे खिलाड़ी भी चाहिए जो जोखिम उठाये और जब तक यह टीम के लिए काम करता है तब प्रबंधन को इससे कोई शिकायत नहीं’.

रोहित की पंत को सलाह

सीमित ओवर के इस उपकप्तान ने इस तरह की पारी के दौरान असफलता के बाद पंत (Rishabh Pant) को निशाना बनाने से बचने की सलाह दी.

उन्होंने कहा, ‘ऐसा भी समय होगा जब बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में वह आउट होंगे और मैं नहीं चाहता कि इससे कोई निराश हो. वह ऐसे खिलाड़ी है जो ऐसी पारी खेलते है जिससे टीम एक घंटे के अंदर मुश्किल परिस्थिति से बाहर निकल जाती है’.

रोहित (Rohit Sharma) ने कहा, ‘पंत जैसे खिलाड़ी को अपने कौशल का समर्थन करना चाहिए और प्रबंधन उनकी क्षमता के बारे में जानता है. उन्हें ऐसे खेलने की छूट दी गयी है जो मेरे नजरिए से बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि मैं पूरी तरह से एक बल्लेबाज के दृष्टिकोण को समझता हूं’.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here