चिराग पासवान ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि यदि लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के कोटे से पशुपति पारस को मंत्री बनाया गया तो वे कोर्ट जाएंगे।

नई दिल्ली। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर सियासी सर्गरमी बढ़ी हुई है। किसे मिलेगा मौका और किसके अरमानों पर फिरेगा पानी.. इस सियासी अटकलों के बीच अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हनुमान (चिराग पासवान) ने अपने तेवर तीखे कर दिए हैं।

दरअसल, मंत्रिमंडल विस्तार से ठीक कुछ घंटों पहले चिराग पासवान ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि यदि लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के कोटे से पशुपति पारस को मंत्री बनाया गया तो वे कोर्ट का रूख करेंगे। इससे पहले मंगलवार को चिराग ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ये कहा था कि पशुपति पारस को एलजेपी के कोटे से मंत्री बनाया जा सकता है। यदि ऐसा होता है तो वे कोर्ट जाएंगे।

पशुपति को निर्दलीय सांसद के तौर पर बनाया जाए मंत्री: चिराग

चिराग ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि वे एलजेपी के कोटे से किसी को भी मंत्री न बनाएं। यदि पशुपति पारस को को मंत्री बनाना ही है तो एक निर्दलीय सांसद के रूप में मंत्री बनाया जाए।

यह भी पढ़ें :- Modi Cabinet Expansion: मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार कल, इन नेताओं को मिल सकती है जगह, शाम 6 बजे शपथ ग्रहण

चिराग ने कहा कि यदि उन्हें एक निर्दलीय सांसद के तौर पर या फिर जदयू (JDU) के कोटे से मंत्री बनाया जाता है तो उन्हों कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन अगर एलजेपी के कोटे से उन्हें मंत्री बनाया जाता है तो वे कोर्ट जाएंगे।
उन्होंने कहा है कि जिन सांसदों ने बगावत की थी उन्हों पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पशुपति पारस को भी पार्टी के कार्यकारी बोर्ड ने पार्टी से निष्कासित कर दिया है। ऐसे में उन्हें एलजेपी की तरफ से मंत्री बनाना संभव नहीं है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here