बॉलीवुड के कुछ कलाकार कम समय में ही अपनी एक्टिंग से दर्शकों के दिलों पर ऐसी छाप छोड़ गए कि उनकी यादें आज तक सबके ज़हन में ताज़ा हैं. एक्टर दिलीप धवन (Dilip Dhawan) भी उनमें से एक हैं. दिलीप ने अपने करियर में 50 से ज्यादा फिल्मों और कुछ बेहतरीन टीवी सीरियलों में काम किया था. दिलीप ने सबसे पहले 1968 में आई फिल्म ‘संघर्ष’ में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट करियर की शुरुआत की थी जिसमें दिलीप कुमार मुख्य भूमिका में थे.

वह केरेक्टर आर्टिस्ट कृष्णन धवन के बेटे हैं. दिलीप धवन को सबसे ज्यादा पहचान टेलीविजन सीरियल नुक्कड़ से मिली थी जिसमें उन्होंने गुरु का किरदार निभाकर सबका दिल जीत लिया था. गुरु नुक्कड़ गैंग का लीडर रहता है जो अपनी सूझ बूझ से सबके झगड़े सुलझा देता है. दिलीप धवन ने इस सीरियल के अलावा जनम, दीवार और तेरे मेरे सपने में भी काम किया था. फिल्मों में उन्हें बतौर सपोर्टिंग एक्टर ज्यादा पहचान मिली जिनमें एक बार कहो, अल्बर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है, सज़ाए मौत, साहेब , डाक बंगला, हीरो हीरालाल, स्वर्ग, इज्ज़तदार, हीना, मदहोश, यश,विरासत, हम साथ-साथ हैं, राजा को रानी से प्यार हो गया जैसी फ़िल्में शामिल हैं.

Nukkad में गुरू बनकर इस एक्टर ने कमाया था नाम, 45 साल की उम्र में दुनिया को कह गए अलविदा

दिलीप का करियर काफी बेहतरीन जा रहा था और उन्हें अपने निभाए किरदारों के लिए काफी पहचान भी मिल रही थी लेकिन अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. 45 साल की उम्र में दिलीप धवन की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. उनकी मौत से बॉलीवुड को तगड़ा झटका लगा था और इंडस्ट्री को उनके जैसा बेहतरीन एक्टर खोने का गम हमेशा रहेगा. 

ये भी पढ़ें: 

Salman Khan के साथ कई फिल्मों में दिखा था ये एक्टर, गंभीर बीमारी से कम उम्र में ही हो गई थी मौत

अब ऐसी दिखती हैं ‘लाल दुप्पटे वाली’ एक्ट्रेस Ritu Shivpuri, 28 साल बाद इतना बदल गया लुक



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here