अहमदाबाद: नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi Stadium) की पिच (Pitch) को लेकर इंग्लिश दिग्गज माइकल वॉन (Michael Vaughan) और केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) ने काफी ओलोचना की थी. अब टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने इस मुद्दे पर खुलकर बात की है.

रवि शास्त्री ने शनिवार को माना कि मोटेरा ट्रैक के नेचर पर हल्ला मचाने की कोई वजह नजर नहीं आती है क्योंकि क्यूरेटर ने ऐसी पिचें बनाई जिनसे यहां पिछले 2 मैचों में ‘शानदार एंटरटेनमेंट’ हुआ. इंग्लैंड के कुछ पूर्व खिलाड़ियों ने तीसरे टेस्ट के लिए पिच की कड़ी आलोचना की थी क्योंकि मेहमान टीम डे-नाइट में 112 और 81 रन पर ऑल आउट हो गई थी.

यह भी पढ़ें- अक्षर पटेल ने डेब्यू टेस्ट सीरीज में बनाया शानदार रिकॉर्ड, इन भारतीय क्रिकेटर्स को पछाड़ा

इंग्लैंड (England) को स्पिनर्स के लिए फायदेमंद पिच पर खेलने में परेशानी हुई जबकि टीम इंडिया (Team India) ने यहां तीसरे और चौथे टेस्ट में जीत हासिल करते हुए जून में न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (ICC World Test Championship) फाइनल के लिए क्वालीफाई किया.

इंग्लैंड को दूसरी पारी में 135 रन पर समेटकर चौथे टेस्ट में यहां पारी और 25 रन की जीत के बाद शास्त्री ने कहा, ‘मैं इसे ग्राउंड्समैन (Groundsman) को समर्पित करूंगा. मुझे लगता है कि आशीष भौमिक एक शानदार मैदानकर्मी हैं, वह अपना काम जानते हैं. वो दलजीत सिंह के साथ काम कर चुके हैं जो मास्टर क्यूरेटर हैं.’

उन्होंने कहा, ‘कौन इस पिच की शिकायत करेगा? इस पर शानदार एंटरटेनमेंट हुआ, दोनों टीमों के लिए और खेल के लिए. साथ ही 3-1 के नतीजे से पता नहीं चलता कि ये सीरीज कितनी करीब थी.’ शास्त्री ने टीम के वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में जगह बनाने के लिए तारीफ की जबकि पिछले साल आईसीसी (ICC) ने क्वालीफिकेशन के नियम में बदलाव किया था.

 

 

उन्होंने कहा, ‘हमारे लिए वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में प्वॉइंट टेबल में टॉप पर रहना ढाई साल की मेहनत है और उन सालों में कामयाब होने के लिए इससे पहले 6 साल की मेहनत है. खिलाड़ियों ने एक बार में एक ही सीरीज पर ध्यान दिया और वो वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में ज्यादा परेशान नहीं थे क्योंकि ‘गोल पोस्ट’ हर बार शिफ्ट हो जाता था.’

टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने कहा, ‘हम प्वॉइंट टेबल में टॉप पर चल रहे थे और कुछ नियमों में बदलाव के बाद पर्सेंटेज प्वॉइंट सिस्टम आ गया, जब हम खेल भी नहीं रहे थे. लेकिन कोई बात नहीं, फिर भी हमें 520 प्वॉइंट्स मिले, हम प्वॉइंट टेबल में टॉप पर रहने और फाइनल खेलने के हकदार हैं.’





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here