संसद (Parliament) का शीतकालीन सत्र (Winter Session) चल रहा है और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष और रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी ने लोकसभा में सीबीएसई के सिलेबस का मुद्दा उठाया। सोनिया गांधी ने कहा कि सीबीएसई सिलेबस में महिलाओं के लिए आपत्तिजनक कंटेंट दिया गया है। सोनिया गांधी ने कहा कि शिक्षा मंत्रालय को जेंडर के प्रति संवेदनशील होना चाहिए और गलतियों के लिए माफी मांगनी चाहिए। लोकसभा में यह मामला उछलने के बाद सीबीएसई भी सक्रिय हो गया है और तत्काल सफाई देते हुए कहा कि विवादास्पद कंटेंट को हटाया जा रहा है और इससे जुड़े विवादास्पद प्रश्नों को भी हटाया जा रहा है।

सोनिया बोली, तुरंत हटाया जाए सिलेबस

लोक सभा में सोनिया गांधी ने कहा कि सीबीएसई सिलेबस में महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक कंटेंट दिया गया है, जिसे तत्काल हटाया जाना चाहिए। साथ ही सोनिया ने कहा कि महिलाओं के प्रति ऐसा अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सीबीएसई और शिक्षा मंत्रालय महिलाओं का अपमान करने के लिए माफी मांगना चाहिए।

सीबीएसई की कक्षा-10 का मामला

सोनिया गांधी ने कहा कि क्लास-10 के अंग्रेजी की पेपर में एक एक्सरसाइज थी, जिसमें घर पर किशोरों के बीच अनुशासनहीनता के लिए नारीवादी विद्रोह और पत्नी की दास्य मुक्ति को दोषी ठहराया गया है। सोनिया गांधी ने कहा कि CBSE से इतनी बड़ी गलती कैसे हुई, इस बात की भी समीक्षा होनी चाहिए। सोनिया गांधी ने कहा कि शिक्षा मंत्रालय को CBSE सिलेबस और टेस्टिंग में लिंग संवेदनशीलता मानकों की समीक्षा करनी चाहिए और भविष्य में भी इस तरह की गलतियां न हो, इसके प्रति अलर्ट रहना चाहिए।

Posted By: Sandeep Chourey

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here